अंकुश वशिष्ट/हरिपुर

हरिपुर तहसील के अंतर्गत ग्राम पंचायत सकरी का एक परिवार आज भी बिना नल से जीवन यापन कर रहा है लेकिन इनकी सुध लेने वाला कोई भी नहीं है।

यह बूढ़ा दम्पत्ति उस आस लगाए बैठा है कि कब उनको अपने घर में लगे नल का पानी नसीब होगा। जब मीडिया इस सारे मसले को लेकर प्यार चंद के घर पहुंची तो नम आंखों से उन्होंने बस यही मांग की कि उनके घर में नल लग जाए। दम्पत्ति के मुताबिक वर्ष 2014 में इन्होंने पानी के कनेक्शन के लिए जल शक्ति विभाग को आवेदन दिया था और इनका निजी नल स्वीकृत भी हो गया और बिना नल के लगे वर्ष 2016 में उसका बिल भी भर दिया गया लेकिन वर्ष 2021 फरवरी-मार्च के बीच तकरीबन 7 वर्ष के बाद नल लगा और 1 सप्ताह के भीतर ही कनेक्शन काट दिया गया। जब कनेक्शन काटा गया तो परिवार के मुताबिक घर पर कोई भी नहीं था और उन्हें कारण भी नहीं बताया गया। पिछले कई वर्षों से इन्हीं की निजी जमीन से सरकारी पाइप निकल कर जा रही हैं लेकिन इस परिवार को विभाग ने इस परिवार को पानी की बूंद बूंद के लिए तरसा दिया। मजबूरन आज यह परिवार उस हैंडपंप का गंदा पानी पीने को मजबूर हैं जिस के नजदीक ही गोबर के ढेर लगे हैं। परिवार में प्यार चंद और उनकी पत्नी अयोध्या देवी दो ही लोग रहते हैं। अयोध्या देवी के मुताबिक वह दिहाड़ी मजदूरी करके परिवार को पाल रही है उनके पति बीमारी के कारण काम करने में असमर्थ हैं ओर सुबह शाम परिवार की जरूरत के लिए पानी खुद हैंडपंप से भर के लाती है। इन दोनों का कहना है कि पानी के कनेक्शन के लिए हर जगह गुहार लगाई लेकिन किसी ने भी इनकी सुनाई नहीं की। प्रशासन से इनकी मांग है कि हमारी उम्र का लिहाज करते हुए और इंसानियत दिखाते हुए शीघ्र अति शीघ्र हमारा नल लगना चाहिए।

प्यार चंद चौधरी की आयु लगभग 65 वर्ष है लेकिन  हर्ट पेशेंट होने के कारण उन्हें दो स्टंट डले हैं और बीपीएल परिवार से संबंध रखते हैं। उनकी केवल एक बेटी है जिसकी शादी हो चुकी है।

मामला ध्यान में आया है। इस बारे पड़ताल करके शीघ्र ही समस्या का हल किया जाएगा।

मनीष चौधरी, सहायक अभियंता
जल शक्ति विभाग, हरिपुर।