fbpx




सौरभ शर्मा,मिलाप कौशल/ज्वालामुखी




सामाजिक एवं सांस्कृतिक संगठन “यूथ डेवलपमेंट सेंटर” द्वारा “शिवालिक इंटरनेशनल कान्वेंट स्कूल- खौला भाटी” में आयोजित किए जा रहे तीन दिवसीय “स्वामी विवेकानंद जयंती उत्सव” का आज शुभारम्भ करते हुए प्रधानाचार्य मुनीश राणा ने युवाओं को भारतीय संस्कृति के धव्जवाहक एवं युवा शक्ति के अमर प्रतीक स्वामी विवेकानंद के आदर्शों पर चलने का आह्वान करते हुए कहा कि युवाओं को राष्ट्र निर्माण एवं सामाजिक विकास में योगदान देना चाहिए ।


उन्होंने कहा कि आज के भागमभाग दौर में लोग अपने तक ही सीमित हो गए हैं। परिणाम यह हुआ कि लोक संस्कृति धीरे-धीरे विलुप्त हो गई। लोककलाओं में जनसंस्कृति की महक होती है इसलिए लोक परंपरा और सांस्कृतिक धरोहर को संजोने की आवश्यकता है। साथ ही पुरानी पीढ़ी की यह जिम्मेदारी है कि अपनी इस पहचान से नई पीढ़ी को अवगत कराए और पारंगत करें।
मुख्यातिथि मैनेजमेंट गुरु विक्रांत भूषण ने कहा कि समय के बदलाव के साथ लोककला और संस्कृति को लोग भूलते जा रहे हैं। “यूथ डेवलपमेंट सेंटर” विलुप्त हो रही सांस्कृतिक परंपराओं को सहजने में जुटा है। सेंटर लोक कलाकारों को एक ऐसा मंच मुहैया कराता है जिससे लोक संस्कृति आम आदमी के तन-मन में उतर जाती है।
भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के सहयोग एवं हिमाचल प्रदेश भाषा,कला एवं संस्कृति विभाग के निर्देशन में आयोजित किए जा रही इस उत्सव श्रृंखला का शुभारम्भ दीप प्रज्जल्वित कर किया गया । स्थानीय लड़कियों द्वारा प्रस्तुत पहाड़ी समूह लोक गीत ने दर्शकों का मन मोह लिया । परम्परागत लोक नृत्य “झमाकड़े” व” गिद्दे” पर युवा नाचने पर मजबूर हो गए ।
इस अवसर पर प्रिंसिपल मुनीष राणा,नेहा शर्मा,मीनाक्षी अवस्थी,सुमिधा, शीतल,सपना कुमारी, शिवानी, सुनीता , मीनाक्षी आदि शिक्षाविदों एवं गणमान्यों ने युवाओं का मार्गदर्शन किया ।