कुलदीप शर्मा ब्यूरो/
न्यूज हिमाचल 24

उपायुक्त अरिंदम चौधरी ने सभी अधिकारियों को मंडी जिले में कोविड टीकाकरण की दूसरी डोज के शत प्रतिशत लक्ष्य को 30 नवंबर से पहले पूरा करने के लिए खुद फील्ड में जुटने को कहा है। उन्होंने सभी खंड चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे पर्सनल पेन लें और लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करें। जिन लाभार्थियों की दूसरी डोज लंबित है, उनसे संपर्क करें, फोन पर बात करें। पंचायत जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेकर लोगों को टीकाकरण के लिए लाना सुनिश्चित करें।
वे क्षेत्रीय अस्पताल मंडी के सभागार में आयोजित कोविड टीकाकरण को लेकर गठित जिला टास्क फोर्स की बैठक ले रहे थे।
जिले में अगले एक सप्ताह तक हर रोज 19 हजार डोज का लक्ष्य
उपायुक्त ने कहा कि 30 नवंबर से पहले जिले में कोविड टीकाकरण की दूसरी डोज के शत प्रतिशत लक्ष्य को पूरा करने को अगले एक सप्ताह तक हर रोज 19 हजार डोज लगाने का लक्ष्य तय किया गया है। इसे हासिल करने के लिए पूरी गंभीरता से योजनापूर्वक काम करें। पंचायत प्रतिनिधियों, आशा-आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, ग्राम रोजगार सेवकों की मदद लें। मोबाइल टीमें बना कर टीकाकरण का कार्य करें। प्रयास ये रहे कि 28 नवंबर तक ही दूसरी डोज के शत प्रतिशत लक्ष्य को हासिल कर लिया जाए।
मंडी के जिला आपदा केंद्र ने किए करीब 6 हजार फोन
उपायुक्त ने बताया कि जिला आपदा केंद्र मंडी ने पिछले दो सप्ताह में दूसरी डोज के 5840 लाभार्थियों को फोन कर टीकाकरण का आग्रह किया। इसके अच्छे परिणाम मिले हैं। उन्होंने इस प्रयास के लिए एडीएम राजीव कुमार व उनकी पूरी टीम की पीठ थपथपाई। टीकाकरण कार्य में लगे बाकी विभागों से भी ऐसे ही प्रयास करने का आग्रह किया।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. देवेंद्र शर्मा बताया कि जिले में 250 साईट पर टीकाकरण कार्य किया जा रहा है। अब तक जिले में 7 लाख 84 हजार 115 लोगों को पहली डोज दी जा चुकी है। इनमें से 6.66 लाख से अधिक लाभार्थियों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। उन्होंने आश्वासन दिलाया कि जिले में प्रशासन के सहयोग से अगले एक हफ्ते में टीकाकरण तय लक्ष्य को हासिल कर लिया जाएगा।
बैठक में अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी राजीव कुमार, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश ठाकुर, जिला टीकाकरण अधिकारी अनुराधा शर्मा, डॉ. अरिंदम रॉय, डीआरडीए के परियोजना अधिकारी नवीन शर्मा, जिला कल्याण अधिकारी आर.सी.बंसल, बाल विकास परियोजना की जिला कार्यक्रम अधिकारी मंजु बाला और सभी खंड चिकित्सा अधिकारियों सहित अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।