किरण पधर (मंडी)।


जिला मंडी टैक्सी ऑपरेटर यूनियन के प्रधान महेंद्र गुलेरिया ने कहा है कि प्रदेश सरकार की अनदेखी व गलत तरीके के साथ इस कोरोना महामारी काल में ट्रांसपोर्टरों के लिए बनाये जा रहे कानून की वजह से आज टैक्सी ऑपरेटर बहुत ही दयनीय स्थिति में है।

उन्होंने कहा कि टैक्सी ओपरेटरों की अनदेखी की प्रदेश सरकार ही पूरी तरह जिम्मेवार है। सरकार ने टैक्सी ऑपरेटरों के बार बार आग्रह को अनदेखा किया। ऑपरेटरों ने बार बार पत्र लिखकर, संबंधित विभाग के मंत्री से मिलकर राहत व थोपे जा रहे क़ानूनों का विरोध भी किया लेकिन सरकार व प्रशासन के कान में कभी जूँ तक नहीं रेंगती। टैक्सी ऑपरेटरों को तो यह आभास होता है जैसे सरकार व प्रशासन को तो ऐसा लगता हैं की टैक्सी ऑपरेटर प्रदेश के न होकर बाहर से सिर्फ़ धंधा करने आये हो। आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार टैक्सी ऑपरेटरों को दोनों हाथों से लूट रही है। लूट शब्द से ऑपरेटरों का अभिप्राय इस बात से है कि यह वह तड़का है जो प्रदेश सरकार को तेल पर टैक्स, रोड़ पर चलने का रोड़ टैक्स, गाड़ी खरीद पर टैक्स, स्पेयर्स पार्ट पर टैक्स, टायर पर टैक्स, सवारी बिठाने पर पैसेंजर टैक्स, बिल पेमेंट पर टैक्स देता है वो भी ऐसे टैक्स जो अग्रिम भरे जाते हैं। इसी से प्रदेश सरकार द्वारा निर्धारित किए गए बिभिन्न प्रकार के चालान के रूप में सरकार को पैसा दिया जाता है और सरकार व प्रशासनिक अधिकारी हमारे द्वारा भेजी गई अर्जी व मिल कर दी गई अर्जी का जबाब तक देना उचित नहीं समझते। इस स्थिति को देखते हुए यदि प्रदेश सरकार ने धर्मशाला में चलने वाले विधानसभा सत्र में हमारे हित में कोई अच्छा निर्णय नहीं लिया तो टैक्सी ऑपरेटर जल्द ही प्रदेश के महामहिम राज्यपाल जी के समक्ष अपनी अर्जी लेकर जायेंगे।
इसी के साथ हम प्रदेश सरकार को एक बार फिर चेताना चाहते हैं कि यदि सरकार हमारी समस्याओं को नहीं सुलझाती तो लोकसभा चुनाव में आज सिर्फ़ चार लाख वोटों की लीड टूटी है जिसके बारे में मुख्यमंत्री महोदय भलीभांति जानते है कि ये वोट कोई श्रद्धांजलि वोट नहीं था। श्रद्धांजलि वोट होता तो जब पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह जीवित थे तो यह आंकड़ा एक तरफा न होता। इसलिए हम प्रदेश सरकार को बताना चाहते हैं कि जल्द ही टैक्सी ऑपरेटर हित में विचार किया जाये टैक्सी ऑपरेटर भी घर परिवार व बच्चों वाले हैं और उनके भी सभी लोगों की तरह कई सारे सपने हैं। सरकार से मांग की जाती है कि समस्त टैक्सी ऑपरेटरों और इस से जुड़े हजारों लोगों को जल्द से जल्द प्रदेश सरकार राहत प्रदान करे।