कुलदीप शर्मा /मंडी /न्यूज हिमाचल 24

मंडी संसदीय क्षेत्र में चुनावी प्रक्रिया को निष्पक्ष व पारदर्शी बनाने के उद्देश्य से उम्मीदवारों द्वारा अभी तक किए गए चुनावी व्यय की 16 अक्तूबर को पहली जांच की जाएगी। इस दौरान प्रत्याशियों के खर्च रजिस्टर का निरीक्षण तथा शैडो रजिस्टर से मिलान किया जाएगा।
यह जानकारी देते हुए निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त अरिंदम चौधरी ने बताया कि मंडी संसदीय क्षेत्र के लिए चुनाव आयोग द्वारा नियुक्त व्यय पर्यवेक्षक आईआरएस अधिकारी विमल कुमार मीणा उम्मीदवारों के व्यय संबंधी दस्तावेजों की जांच करेंगे। उन्होंने बताया कि जांच प्रक्रिया में उम्मीदवारों या उनके प्रतिनिधियों की उपस्थिति में उनके आय-व्यय के दस्तावेजों व रजिस्टर का निरीक्षण किया जाएगा। उन्होंने आग्रह किया कि उम्मीदवार अथवा उनके अधिकृत प्रतिनिधि चुनाव के लिए नए खोले गए नए खाते की डिटेल भी साथ लाएं।
अरिंदम चौधरी ने कहा कि 16 अक्तूबर के बाद 21 और 28 अक्तूबर को प्रत्याशियों के खर्च रजिस्टर का निरीक्षण किया जाएगा।
उन्होंने उम्मीदवारों को अपने चुनाव प्रचार-प्रसार व अन्य गतिविधियों के संबंध में हुए खर्च के ब्यौरे को रजिस्टर में दर्ज करने को कहा है। उन्होंने कहा कि उम्मीदवार अपने एजेंट को सही तरीके से व्यय रजिस्टर तैयार करने को कहें। व्यय रजिस्टर को अद्यतन रखें।