मिलाप चंद कौशल/ ब्यूरो——ऊना





उपायुक्त ऊना राघव शर्मा की अध्यक्षता में आज जिला स्तरीय सड़क सुरक्षा समिति की एक समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए डीसी ने कहा कि मैहतपुर व चिंतपूर्णी में इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमैंट सिस्टम लगाया जाएगा, जिससे ट्रैफिक नियमों की अवहेलना के चालान कैमरा स्वतः करेगा।


डीसी ने कहा कि पुलिस विभाग ने 77.40 लाख रुपए से जिला ऊना में ट्रैफिक कंट्रोल रूम स्थापित करने का प्रस्ताव दिया है। इसके अतिरिक्त लगभग 35 लाख रुपए का प्रस्ताव जिला के मुवारिकपुर, गगरेट, टाहलीवाल तथा ऊना शहर के डीसी कार्यालय चौक पर ट्रैफिक लाइट्स लगाने के लिए प्राप्त हुआ है। राघव शर्मा ने कहा कि प्रदेश का प्रथम ट्रैफिक पार्क बनाने का प्रस्ताव भी है जिसके लिए क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी कार्यालय के पास अढ़ाई कनाल भूमि का चयन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जनवरी माह को रोड सेफ्टी माह के रूप में मनाया जाएगा। एनएच अधिकारियों को निर्देश देते हुए उन्होंने कि वाहनों की गति पर नियंत्रण पाने के लिए उचित स्थानों पर गति संकेतक बोर्ड प्रदर्शित करें।
राघव शर्मा ने कहा कि ऊना जिला में 21 ब्लैक स्पॉट चिन्हित किए हैं। उन्होंने इन चिन्हित स्थानों पर संबंधित विभाग के अधिकारियों को थर्मोप्लास्टिक, स्पीड ब्रेकर, स्पीड बोर्ड व क्रॉस बैरिकेड लगाने के निर्देश दिए। राघव शर्मा ने उपमंडलाधिकारी, पुलिस विभाग व आरटीओ को संयुक्त रूप से स्कूल के वाहनों का समय-समय पर निरीक्षण करने के साथ-साथ वाहन चालक व परिचलाक की वैरिफिकेशन करने को भी कहा। उपायुक्त ने ट्रैफिक नियमों की अवहेलना पर सख्ती करने के निर्देश देते हुए कहा कि पेट्रोल पंप पर नो हैल्मेट, नो पेट्रोल का निमय शुरू किया जाए।
इस मौके पर क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी रमेश चंद कटोच ने कहा कि अधिकांश सड़क दुर्घटनाओं का कारण मानवीय भूल व सुरक्षा नियमों की अनदेखी करना है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वह वाहन चलाते समय हैल्मेट और सीट बेल्ट का प्रयोग करना अवश्य सुनिश्चित करें।
इस अवसर पर एसडीएम डॉ. निधि पटेल, डीएसपी ऊना कुलविंद्र सिंह, आरटीओ रमेश चंद कटोच, रोड सेफ्टी ऊना के अध्यक्ष डॉ सुभाष शर्मा, अधिशाषी अभियंता लोक निर्माण विभाग राजेश कुमार, सहायक अभियंता एनएच रणजीत सिंह, राजीव भनोट सहित समिति के अन्य सदस्य उपस्थित रहे।